यूपी: कांग्रेस ने भूमिहार ब्राह्मण को सौंपी पार्टी की कमान, यहां जानें क्या है रणनीति

साल 2024 में होने वाले लोकसभा चुनाव को लेकर कांग्रेस ने कमर कसनी शुरू कर दी है। वह दिल्ली में लगातार बैठकें कर रही है और माहौल का जायजा ले रही है।

लखनऊ। साल 2024 में होने वाले लोकसभा चुनाव को लेकर कांग्रेस ने कमर कसनी शुरू कर दी है। वह दिल्ली में लगातार बैठकें कर रही है और माहौल का जायजा ले रही है। साथ ही वह संगठन में जरूरी बदलाव भी कर रही है। इस कड़ी में अब पार्टी ने उत्तर प्रदेश की अजय राय को सौप दी है। पार्टी ने उन्हें यूपी का प्रदेश अध्यक्ष मनोनीत किया है।

बता दें कि पूर्व विधायक और मंत्री रहे अजय राय भूमिहार ब्राह्मण हैं और उनकी गिनती पार्टी के संघर्षशील नेताओं में होती है। पूर्वांचल के वाराणसी से ताल्लुक रखने की वजह से वे इस इलाके में कांग्रेस को मजबूती देने में बहुत उपयोगी साबित हो सकते हैं। उन्हें प्रदेश अध्यक्ष बनाकर कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश में ब्राह्मणों के साथ-साथ अन्य उच्च जातियों को भी साधने का काम किया है।

दरअसल, अजय राय पूर्वांचल के बड़े नेता मानें जाते हैं। इस इलाके में बड़ी संख्या में भूमिहार ब्रह्माण रहते हैं। अजय राय के कारण यह बड़ी आबादी कांग्रेस के साथ जुड़ सकती है जिसका फायदा कांग्रेस को आगामी आमचुनाव में मिल सकता है। इसके साथ ही अन्य ब्राह्मण वर्ग भी कांग्रेस के साथ जुड़ सकता है क्योंकि प्रदेश का ब्राह्मण समुदाय इस समय स्वयं को नेता विहीन मान रहा है।

ऐसा माना जा रहा है कि प्रदेश में कोई राजनीतिक दल ब्राह्मणों को उचित मान-सम्मान नहीं दे रहा है जिससे ब्राह्मण समुदाय क्षुब्ध है और किसी मजबूत विकल्प की तलाश में है। वहीं प्रदेश की योगी सरकार पर भी आरोप है कि वह ब्राह्मणों की उपेक्षा कर रही है। भाजपा संगठन से लेकर सरकार तक में ब्राह्मणों की कोई सुनवाई नहीं हो रही है। इन्हीं वजहों से माना जा रहा है कि कांग्रेस ने बहुत सोच-समझकर अजय राय को अपना अध्यक्ष नियुक्त किया है।

मालूम हो कि उत्तर प्रदेश में मुसलमान इस समय पूरी तरह कांग्रेस के पक्ष खड़े नजर आ रहे हैं। ऐसे में अगर अजय राय ब्राह्मणों का एक बड़ा वोट बैंक कांग्रेस के साथ लाने में सफल रहते हैं तो इससे देश के इस सबसे बड़े सूबे में समीकरण बदल जाएंगे। वहीं भाजपा की चुनौती भी बढ़ सकती है जो विभिन्न वर्गों के वोटों के सहारे प्रदेश की सभी 80 सीटों को जीतने का ख्वाब देख रही है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also
Close
Back to top button